SEARCH
Items for Sale
Books & Magazines
in Delhi
Items for Sale
Delhi

ईर्ष्या तू न गई मेरे मन से

Overview

Respond to this Ad
Ad number:#467415625
Contact:Manish Kumar
City:Fatehpur UP 212601
Zip:212601
Price:10

Description

ईर्ष्या तू न गई मेरे मन से एक बहुत ही अच्छी रचना है जिसके लेखक  "रामधारी सिंह 'दिनकर' " जी ने ईर्ष्या के द्वारा होने वाले दुश्परिणामो के बारे में बताया है, और इस बुरी आदत से बचने का भी उपाय बताया है, की कोई भी व्यक्ति जो किसी दुसरे व्यक्ति से ईर्ष्या करता  हो वह व्यक्ति इस भयंकर बीमारी से कैसे बच सकता है | किसी से ईर्ष्या करके अपने आप को जलाना अच्छी बात नहीं होती, हाँ यदि ऐसी ईर्ष्या की जाये की जाये की अगला व्यक्ति अगर इतना अधिक बढा है तो आप उससे कई गुना अधिक बढ़कर दिखायेंगे तो वह ईर्ष्या आपका विकास करेगी | ईर्ष्या करने से कोई लाभ नहीं है क्योंकि ईर्ष्या का काम केवल  व्यक्ति को जलाना  है और कुछ भी नहीं | इस पुस्तक को पढ़कर हर वो व्यक्ति ईर्ष्या के जाल से मुक्त हो सकता है, जो अपने आप ईर्ष्या जैसे गंदें विचारों में अपने आप को लिप्त पता हो | अतः आप इस पुस्तक को अवश्य पढ़ें निश्चित ही यह पुस्तक आपके लिए उपयोगी सिद्ध होगी, और आप ईर्ष्या के इस दुस्प्रभाव को समझ पाएंगे | आप इस पुस्तक को पढ़कर धीरे धीरे बिलकुल से ईर्ष्या करना बंद कर देंगे |

Respond to this Ad

Report this ad


Type of problem:







Your email (optional)


URL (optional)


Comment (optional)
Sending...
Sending...
© 2019 ClassifiedAds.com, Inc. All rights reserved.
_ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _ _